.post-body { -webkit-touch-callout: none; -khtml-user-select: none; -moz-user-select: -moz-none; -ms-user-select: none; user-select: none; }

" टुकड़ों में बंटी हुई माँ "

गुरुवार, 23 अक्तूबर 2008

शायद,
वो माँ होते हुये भी
टुकड़ों में बंटी हुई थी
या बेटों ने अपनी सुविधानुसार
बांट लिया था
अपने सामर्थ्य के अनुपात में

वो,
जैसे माँ ना होकर
केवल एक लाईब्लिटी में बदल गई थी
उसे बीमार भी होना पड़ता था
बेटों के शेड्यूल के हिसाब से
गर एक दिन भी ज्यादा हो तो
या तो दवाई नही मिलती थी
या खान उस दिन
जॊ भी था सीधा-सीधा हिसाब था

एक दिन,
छोडकर बेटों को अपने हाल पर
चल पड़ती है अंनत यात्रा पर
बेटें अब भी उलझे है हिसाब में
किसका कितना खर्च हुआ है
कौन कितने घंटे रुका अस्पताल में
अभी आगे कैसे खर्च करेगें
कि किसी एक पर बोझ ना आये

अब,
आत्मा तो चली गई है
इस नश्‍वर शरीर का क्या
जैसे भी हो उत्तम-मध्यम बस निपटाना भर है
बहुयें उलझ रही है
बेटे झगड़ रहे है / मोबाईल से चिपके हैं
शाम हो रही है
जो भी जुट आया है जैसे भी, जल्दी में है

माँ,
ज़मीन पर इंतज़ार कर रही है
अपनी अंतिम यात्रा का
और बेटे तलाश रहे है कंधे
--------------------------------------
मुकेश कुमार तिवारी
दिनांक : २१-ऑक्टोबर-२००८ / समय : ११:०५ रात्रि / घर

3 टिप्पणियाँ

आदर्श राठौर ने कहा…

मान गए आपके विचारों के अभिव्यक्तिकरण की योग्यता को, अति उत्तम

23 अक्तूबर 2008 को 5:23 pm
Dr. Nazar Mahmood ने कहा…

दीपावली की हार्दिक शुबकामनाएं

25 अक्तूबर 2008 को 11:51 am

बहुत गंभीर भाव शब्दों का सहज प्रवाह
सुखमय अरु समृद्ध हो जीवन स्वर्णिम प्रकाश से भरा रहे
दीपावली का पर्व है पावन अविरल सुख सरिता सदा बहे

दीपावली की अनंत बधाइयां
प्रदीप मानोरिया

26 अक्तूबर 2008 को 9:48 am