.post-body { -webkit-touch-callout: none; -khtml-user-select: none; -moz-user-select: -moz-none; -ms-user-select: none; user-select: none; }

कुछ दिन बिस्तर पर

शुक्रवार, 23 जनवरी 2009

प्यारे ब्लॉगर्स साथियों

करीब दस दिन की अनुपस्थिती के बाद आज पहली बार आप सब चाहने / पढने वालों से मुखातिब हो रहा हूँ. इस बीच क्या हुआ क्या ना हुआ आप के समक्ष रख रहा हूँ.

हाँ एक बात बड़ी शिद्दत से कह सकता हूँ कि मैने अपने नेट/ब्लॉग परिवार को काफी मिस किया.

आपके स्नेह का आभारी

मुकेश कुमार तिवारी
--------------------------

कुछ दिन बिस्तर पर

पता,
नही पैर में क्या हुआ था
सूजन ने केले के तने सा बना दिया था
एक सिम्पल सी ड्रेसिंग को क्या गया
कि उलझ के रह गया

ब्लड़शुगर ने कुछ नही किया
बेचारी नॉर्मल थी
ब्लड़ प्रेशर जरूर पारे के साथ
नदी-पहाड़ / छिया-छाई खेल रहा था
२१० / १५० कुछ ठहरने के बाद १९० / १४०

फिर,
सीने पर कसे जाने शिकंजे
कॉर्डियोग्राम जो होना था
दिल में जो भी था
बदल कर तरंगों में लिखने लगा
अफ्साना मशीन पर
उनकी नजरों में नॉर्मल था

कुछ देर बाद,
फिर खेली आँख-मिचौली पारे से
१९० / १३० के स्कोर पर
फिजिशियन की कुछ हिदायतों /
जरूरी परिक्षणों के निर्देशों /
दवाईयों की लम्बी फेहरिस्त थामे
कुल जमा दो सवा दो घंटों बाद बिदा लेता हूँ
और बिस्तर पर सिमट कर रह जाता हूँ

फिर,
यूरीन रूटीन / माईक्रोस्कोपिक
सी.बी.सी / थाईरॉइड / सीरम क्रिटानिन
फॉस्टिंग / पोस्ट पेरेन्डियल
और ना जाने क्या-क्या?
बस एक रूटीन सा बन आया हो
एक दिन छोड के ड्रेसिंग और
रोज ट्रांक्यूलाईजर्स के डोज
ब्लड़ प्रेशर की माप-जोख
फुर्सत ही कहां रही

आज,
कुछ ठीक लग रहा है
कुछ देर बैठ पाया हूँ सिस्टम पर
कि कह सकूं अपना हाल आपसे
इस बीच कई मेरे ब्लॉग पर आये
अपनी टिप्पणी लिखी
मेरे २ चाहने वाले बढे
किसी एक को मेरा लिखा पसंद नही आया

बहरहाल,
मैं अपने काम पर लौटूंगा
२७ जनवरी से
इस बीच बहुत कुछ सोचा है
लिखना बाकी है
और आप सभी को सुनाना शेष है
------------------------------------------
मुकेश कुमार तिवारी
दिनांक : २३-जनवरी-२००९ / दोपहर : ४:३० / घर-बिस्तर पर

7 टिप्पणियाँ

सबसे पहले तो हम ऊपर वाले से आपके जल्‍द स्‍वस्‍थ होने की मंगलकामना करते हैं बाकी आपने अच्‍छा लिखा है खैर भगवान न करे किसी को भी इस तरह से अपने ऊपर लिखना पडे Get Well Soon

23 जनवरी 2009 को 7:11 pm
sareetha ने कहा…

अस्पताल के चक्कर काटने से बचिए , वरना कविताओं में भी मीठी कडवी दवाओं का स्वाद घुल जाएगा । कुछ दिन आराम और फ़िर मनपसंद काम में जुट जाइए । सेहत खुदबखुद बेहतर होती नज़र आएगी ।

23 जनवरी 2009 को 7:12 pm
संगीता पुरी ने कहा…

दस दिनों के अंदर ही इतने चेकअप....जल्‍छी स्‍वस्‍थ हों....हमारी कामना है।

23 जनवरी 2009 को 8:31 pm
Udan Tashtari ने कहा…

बल्ड प्रेशर पर ध्यान दें. चिंता मार्का से काफी उपर है. ब्लॉगिंग तो होती रहेगी.

स्वास्थय लाभ करें, हमारी शुभकामनाऐं.

23 जनवरी 2009 को 10:34 pm
हिमांशु ने कहा…

स्वस्थ होकर सक्रिय हों. २७ का इंतजार है.

23 जनवरी 2009 को 10:56 pm
अनिल कान्त : ने कहा…

स्वास्थ का ध्यान रखें ......हमारी शुभकामनाएँ


अनिल कान्त
मेरा अपना जहान

23 जनवरी 2009 को 11:01 pm

"शरीरमाध्यम खलु धर्म साधनम्" मुकेश भाई, अपनी सेहत पर पूरा ध्यान दो.

25 जनवरी 2009 को 5:10 am