.post-body { -webkit-touch-callout: none; -khtml-user-select: none; -moz-user-select: -moz-none; -ms-user-select: none; user-select: none; }

एक, मुट्ठी धूप

मंगलवार, 7 जुलाई 2009

एक,
मुट्ठी धूप की तलाश में
पूरी जिन्दगी गुजर गई
हथेलियाँ नही थाम पायी अपने हिस्से में आई धूप
यादों के सिलसिले सी
बस बरसती चली गई मुसलसल
स्याह नम अंधेरों में घुली हवा
बुझा रही थी आग
जहाँ भी थी / जितनी भी

गुनगुनी धूप,
जब सरकी उंगलियों की दरारों से तो दरकती हुई
फिर मिल गई चमकती धूप में
मेरे हिस्से में रह गई
गदेलियों पर मखमली तपन
और उंगलियों के बीच सिसकती नाकामियाँ
जो, छांह के मरहम में
तपिश की चाह पाले हुये जल रही हैं
--------------------------
मुकेश कुमार तिवारी
दिनांक : ०९-जून-२००९ / समय : १०:४४ / घर

24 टिप्पणियाँ

श्यामल सुमन ने कहा…

गहरे अर्थों के साथ एक अच्छी रचना मुकेश भाई। आदरणीय रघुनाथ जी की पंक्तियाँ हैं कि-

जिन्हें रातों में बिस्तर के कभी दर्शन नहीं होते।
बिछाकर धूप का टुकड़ा ओढ़ अखबार सोते हैं।।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.com

7 जुलाई 2009 को 7:13 pm
रंजना ने कहा…

गहरे भावः लिए बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति....

7 जुलाई 2009 को 7:20 pm
Udan Tashtari ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना!!

7 जुलाई 2009 को 7:23 pm

उंगलियों के बीच सिसकती नाकामियाँ ..

tivariji, bahut hi sundar tarike se vyakt ho rahi he aapki shbdo ki ye kdi...//

jis panktiyo ko mene upar vyakt kiya, vo is rachna ki sabse achhi pankti mujhe lagi he...mene apni dairy me utaar li he.

7 जुलाई 2009 को 8:05 pm

बहुत सुंदर भाव लिये हुये है यह रचना. बहुत शुभकामनाएं.

रामराम.

7 जुलाई 2009 को 8:08 pm
ओम आर्य ने कहा…

गहरे भाव लिये हुये तो है प्रस्तुति का अन्दाज तो गज़ब
का है..... एक मुठ्ठी धूप तो मन के कई कोनो को गुनगुना कर गयी........... बहुत ही सुन्दर रचना है आपकी ............

सादर

ओम आर्य

7 जुलाई 2009 को 8:58 pm
ARUNA ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना मुकेश जी!बहुत गहरे भाव!

7 जुलाई 2009 को 9:11 pm
RC ने कहा…

Bahut gehre bhaav hai, bahut sundar rachana Mukesh ji ...

Dubara aaoongi padhne

जो, छांह के मरहम में
तपिश की चाह पाले हुये जल रही हैं

God bless
RC

8 जुलाई 2009 को 12:29 am

गहरे भाव से बनी है आपकी रचना........कितनी सच, अपने हिस्से की धुप को पकड़ने की चाहत...........उँगलियों के बीच से दरकती धुप.......... शब्दों को सधे तरीके से पिरोया है आपने ....लाजवाब

8 जुलाई 2009 को 1:11 am
मीत ने कहा…

बहुत खूब. सुन्दर रचना.

8 जुलाई 2009 को 8:11 am

गुनगुनी धूप,
जब सरकी उंगलियों की दरारों से तो दरकती हुई
फिर मिल गई चमकती धूप में
मेरे हिस्से में रह गई

बहुत सुन्दर लगी यह पंक्तियाँ मुकेश जी ..गलियों के बीच सिसकती नाकामियाँ यह बहुत कुछ कह रही है सुन्दर अभिव्यक्ति ..

8 जुलाई 2009 को 12:07 pm
sada ने कहा…

जो, छांह के मरहम में
तपिश की चाह पाले हुये जल रही हैं

बहुत सुन्दर रचना!

8 जुलाई 2009 को 12:51 pm
‘नज़र’ ने कहा…

आपकी कृतियों में अद्वितीय सौन्दर्य है।

---
नये प्रकार के ब्लैक होल की खोज संभावित

8 जुलाई 2009 को 2:28 pm

हथेलियाँ नही थाम पायी अपने हिस्से में आई धूप
-----
सही है मित्र। धूप तो समय है - जो जी लिया सो लिया, शेष छन गया हथेली से!

8 जुलाई 2009 को 3:25 pm

बहुत खूबसूरत रचना है आपकी...भावपूर्ण....बहुत ही अच्छी लगी...बधाई...
नीरज

8 जुलाई 2009 को 6:22 pm

एक और सशक्त रचना मुकेश जी आपकी कलम से...वाह!
कितनों का सच समेटे हुये इन पंक्तियों पर सलाम

"उंगलियों के बीच सिसकती नाकामियाँ
जो, छांह के मरहम में
तपिश की चाह पाले हुये जल रही हैं"

9 जुलाई 2009 को 1:12 am
Harsh ने कहा…

bahut sundar post lagi... bas likhte rahiye............

9 जुलाई 2009 को 11:29 am
M.A.Sharma "सेहर" ने कहा…

और उंगलियों के बीच सिसकती नाकामियाँ
जो, छांह के मरहम में
तपिश की चाह पाले हुये जल रही हैं


ज़िन्दगी का ये रूप.....

लाजवाब फ़लसफा !!

9 जुलाई 2009 को 1:11 pm

और उंगलियों के बीच सिसकती नाकामियाँ
जो, छांह के मरहम में
तपिश की चाह पाले हुये जल रही हैं
...क्या बात है .हथेलियों में धूप न ठहर पाए न सही तपिश की मामूली छुअन काफी होती है जीवन जीने के लिए .

9 जुलाई 2009 को 2:24 pm

prabhawshali bhawnayen........

9 जुलाई 2009 को 3:45 pm
sandhyagupta ने कहा…
Prem Farrukhabadi ने कहा…

मेरे हिस्से में रह गई
गदेलियों पर मखमली तपन
और उंगलियों के बीच सिसकती नाकामियाँ
जो, छांह के मरहम में
तपिश की चाह पाले हुये जल रही हैं

bahut hi sundar. badhai!!!!!

10 जुलाई 2009 को 8:45 pm
Harkirat Haqeer ने कहा…

एक मुट्ठी धुप की तलाश में
पूरी ज़िन्दगी निकल गयी
हथेलियाँ नहीं थम पाई अपने हिस्से की धुप

वाह बहुत ही लाजवाब रचना......!!
बहुत खूब....!!

11 जुलाई 2009 को 12:42 am
vikram7 ने कहा…

अति सुन्दर

11 जुलाई 2009 को 1:57 pm