.post-body { -webkit-touch-callout: none; -khtml-user-select: none; -moz-user-select: -moz-none; -ms-user-select: none; user-select: none; }

वैलेन्टाइन डे - विशेष

शनिवार, 14 फ़रवरी 2009

हम,
जितना बचाना चाहते हैं
उतनी ही तेजी से बदल रहीं हैं
हमारी परंपरा

प्रेम,
अब भूलने लगा है
बसंती फूलों की भाषा
रट रहा है
लाल गुलाबों का ककहरा
--------------------------------
मुकेश कुमार तिवारी
दिनांक : १४-फरवरी-२००९

1 comment

bahut khoob..
kyaa baat likhi he.
aapki chand shabdo ki rachna ne bahut kuchh kah diya he. prem ko aaj samjhna katheen ho chala he.
basanti foolo ki paribhasha kya ye basnti fool hote kya he yahi aaj ki pidi nahi jaanti,
sadhuvad mukheshji

16 फ़रवरी 2009 को 6:19 pm