.post-body { -webkit-touch-callout: none; -khtml-user-select: none; -moz-user-select: -moz-none; -ms-user-select: none; user-select: none; }

कविता : उम्र के दोराह पर......

रविवार, 7 अप्रैल 2013

मेरे एक करीबी मित्र हैं वली खान और उनके साहबजादे अमन खान, बस एक दिन यूँ ही कह बैठे कि अंकल एक ऐसी कविता सुनाओ जिसमें मैं हूँ, बच्चे की अचानक की गई इस माँग से मैं पहले तो हतप्रभ था लेकिन फिर एक प्रयास से उनके ड़ाईंग रूम में ही तकरीबन आशु कविता सी जो उस बच्चे ने बहुत पसंद की और मुझे कहीं ऐसा लगा जैसे शायद मैं उसकी भावनाओं को समझ पाया, अपने प्रयास में :-

मैं
चाहता हूँ
फिर से खेलना
मिट्टी से बनाना घर
अपने सपनों का
और
रचना एक छोटी सी दुनिया......शांत
यहाँ
बहुत शोर है
और मोटी मोटी किताबें
होमवर्क / एक्जाम्स में फेल होने का खौफ़

फिर से
खो जाना चाहता हूँ
बागीचे में
तितलियों के पीछे
या जमा करते हुए चिडियों के पंख
या बहुत दूर तक भागते हुए
किसी पतंग का पीछे करते

यहाँ से
जो मैं देख रहा हूँ
तो मेरा बचपन गुम हो रहा है
और बड़ा होकर क्या करना है
सामने खड़ा है
किसी यक्ष प्रश्न सा
इतना भ्रमित होता हूँ
इस दोराहे पर

फिर से
लौट जाना चाहता हूँ
अपने बचपन में
उन्हीं सुहाने दिनों में
अपनी कॉमिक्स की दुनिया में
दादा की उंगली पकड़
फिर से घूमता रहूँ
अपनी लॉन में और सीखता रहूँ चलना
अपने कदमों पर
------------------
मुकेश कुमार तिवारी
दिनाँक : 17-नवम्बर-2012 / समय : 01:00 दोपहर / अमन खान के लिए 

7 टिप्पणियाँ

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति,सुन्दर भाव.

7 अप्रैल 2013 को 6:06 pm

बेहतरीन रचना .... शायद हर शख्स चाहता है बचपन में लौट जाना ।

7 अप्रैल 2013 को 9:12 pm

लौटना तो हर कोई चाहता बचपन में ...
भाव पूर्ण रचना ..

8 अप्रैल 2013 को 11:39 am
Anita ने कहा…

बचपन भी आज तो बेफिक्र नहीं गया है..

8 अप्रैल 2013 को 1:17 pm
अनूप शुक्ल ने कहा…

अच्छे भाव हैं।

9 अप्रैल 2013 को 9:36 am

मैं उन्मुक्त हो जीना चाहता हूँ।

11 अप्रैल 2013 को 6:26 pm