.post-body { -webkit-touch-callout: none; -khtml-user-select: none; -moz-user-select: -moz-none; -ms-user-select: none; user-select: none; }

कोई अकेला तो नही बूढ़ा होता

शुक्रवार, 18 दिसंबर 2009

हमारे

बीच वो सब था
जो कि होना चाहिये
जिससे किसी रिश्ते को
कोई नाम दिया जा सकता है


वो,
सब भी था
जो बांधे रखता है
एक डोर में
उलहानों की लालिमा में
सजी सुबह से लेकर
नाराजियों की उबासियाँ लेती
अलसाई दोपहरी /
तानों से बोझिल उदास शाम तक
और इन सबके बावजूद
जो है / जैसा है स्वीकारते हुये
एकसाथ बने रहने की अदम्य इच्छा


मैं,
कभी महसूस करता हूँ कि
हम एकसाथ ना होते तो भी
जिन्दगी के किसी मोड़ पर
जरूर मिले होते
किसी भी वज़ह से या बिलावज़ह भी
लेकिन जरूर मिले होते
कोई अकेला तो नही बूढ़ा होता


हमारे
बीच सभी कुछ
भाग रहा हो हड़बड़ी में
जैसे दीवारें मचलती है
मुँह बाये नये रंगों के लिये
या बाल धकेल रहे हों
खिज़ाब को अपने से परे
केवल एक उम्र का फासला स्थिर है
और हम बुढ़ा रहे हैं
एकसाथ
-----------------
मुकेश कुमार तिवारी
दिनाँक : १६-दिसम्बर-२००९ / समय : ११:१८ रात्रि / घर

22 टिप्पणियाँ

महफूज़ अली ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति....

18 दिसंबर 2009 को 9:56 am

लेकिन जरूर मिले होते
कोई अकेला तो नही बूढ़ा होता

ओह बेहतरीन....उम्दा..!

18 दिसंबर 2009 को 10:02 am
वन्दना ने कहा…

sahi kaha..........sundar bhav.

18 दिसंबर 2009 को 11:39 am

"केवल एक उम्र का फासला स्थिर है / और हम बुढ़ा रहे हैं/ एक साथ !"

बेहद खूबसूरत पंक्तियाँ । सुन्दर कविता । आभार ।

18 दिसंबर 2009 को 12:04 pm

बहुत सही कहा है
अगर हम मिले होते
तो कोई अकेला तो बूढा नहीं होता सुन्दर अभिव्यक्ति धन्यवाद शुभकामनायें

18 दिसंबर 2009 को 12:21 pm

मैं,
कभी महसूस करता हूँ कि
हम एकसाथ ना होते तो भी
जिन्दगी के किसी मोड़ पर
जरूर मिले होते
किसी भी वज़ह से या बिलावज़ह भी
लेकिन जरूर मिले होते
कोई अकेला तो नही बूढ़ा होता

बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति लगी यह ...उम्र के एक साथ होने का एहसास कहीं तो कुछ मिला देता है ..सुन्दर शुक्रिया

18 दिसंबर 2009 को 1:48 pm
kshama ने कहा…

Harek shabd,har panktiko sundartase bharta hua! Waah! Kamaal hai!

18 दिसंबर 2009 को 2:50 pm
मनोज कुमार ने कहा…

हमारे
बीच सभी कुछ
भाग रहा हो हड़बड़ी में
बहुत अच्छा। प्रेरक। बधाई स्वीकारें।

18 दिसंबर 2009 को 2:58 pm
BrijmohanShrivastava ने कहा…

उलाहनों, नाराजियों, तानों को झेलते हुये साथ रहने की इच्छा यही जिन्दगी है ।दीबारें रंग रोगन मांगती हों और बाल खिजाब को सहन न कर पारहे हों ।हां बालों का सफ़ेद होना पहले बुढापे की निशानी समझा जाता था =श्रवण समीप भये सित केसा ,मनहु जरठ पन अस उपदेसा ""रिश्ते को कोई नाम दिया जाना जरूरी भी होता है । "उलाहने की लालिमा मे सजी सुबह"" अच्छा प्रयोग किया है गोया ""यह कभी नही हुआ कि मै खुद कभी सोकर उठूं/ घर के हंगामे ही हर रोज़ जगाते हैं मुझे"" ।उत्तम रचना ,सरल वाक्य ,जीवन की कड़्वी सच्चाई ।

18 दिसंबर 2009 को 7:20 pm

तिवारीजी,
ढलान पर बढती ज़िन्दगी का फलसफा ! खट्टे-मीठे स्वाद से भरी एक समूची आत्मा को आईना दिखाती रचना ! इस सच के सम्मुख साथ होने का ये यकीन क्या कम है ! कविता की पंक्तियाँ मन को छूती हैं ! साधुवाद !!
सप्रीत--आ.

19 दिसंबर 2009 को 12:41 am
परमजीत बाली ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना है बधाई।

19 दिसंबर 2009 को 2:18 am

बेहद खूबसूरत भाव! काल को कौन रोक सका है?

19 दिसंबर 2009 को 9:40 am
M VERMA ने कहा…

उम्र बढता जा रहा है और उम्र का फासला स्थिर है
फासला ही तो है जो फासला बनाए रखने को मजबूर कर देता है.
बहुत गहरी नज़र की रचना
बेहतरीन

19 दिसंबर 2009 को 5:38 pm

जिंदगी कें बारे में बहुत कुछ कहती है आपकी रचना ......... उम्र का फलसफा है आपकी रचना .....

20 दिसंबर 2009 को 6:19 pm

बहुत अच्छी और सुंदर रचना. प्रेरणादायक,सकारात्मक सोच बधाई
बहुत कम शब्दों में कही गयी बहत गहरी बात

22 दिसंबर 2009 को 4:46 pm

आह! मुकेश जी की चमत्कारी लेखनी का एक और जादू....

बहुत सुंदर कविता, सर!

23 दिसंबर 2009 को 7:47 pm
Rajey Sha ने कहा…

वैसे भी बुढ़ापा मौत की तरह ही याद रखने योग्‍य चीज है।

23 दिसंबर 2009 को 8:15 pm

मेरे सखा श्री नरेन्द्र सिँह सिकरवार की ई-मेल प्र प्राप्त प्रतिक्रिया :-

Mukesh Bhiya

It’s simply beautiful.... vah! Kya sur lagaya hai!!!!

Koi akela to boodha nahi hota…

Boodha hona such hai is jeevan ka
Naye valay umr ke paida hote rahte hain..
aur dhakelte hain pichhle valay ko age, tab aadmi boodha hota hai,
Chahe akela ho yaa kisi ke saath ho...

Kintu....
Kisi ke saath boodha hone ki apni ek ada hai.. apna ek andaaz hai...
Jisme boodha hone ki anubhuti dheere hoti hai
ekdum se pareshaan nahi karta naye valay ka pichle valay ko dhakelna...
fir chaahe baal khizaab ko kyo na dhakelte rahein....

Good one...... Bhiya, good one...

Regards,
Pappu....

narendra.sikerwar@avtec.in

24 दिसंबर 2009 को 1:31 pm
mukti ने कहा…

एक साथ बुढ़ाने का भी अलग ही आनन्द होता होगा. यह मैं इस कविता के माध्यम से महसूस कर रही हूँ.

26 दिसंबर 2009 को 12:18 am
ओम आर्य ने कहा…

और इन सबके बावजूद
जो है / जैसा है स्वीकारते हुये
एकसाथ बने रहने की अदम्य इच्छा...

आज के इस विखंडित होते माहौल में, जहाँ तलाकशुदा लोगों की तादाद बढती जा रही है...आपकी कविता प्रेरित करती है एक साथ बुढ़ाने के लिए...

3 जनवरी 2010 को 11:09 am
संजय भास्कर ने कहा…

बेहद खूबसूरत भाव! काल को कौन रोक सका है

16 अप्रैल 2010 को 6:25 am